पानी के बिना कोई जीवन नहीं है, या कम से कम वैसा तो नहीं ही जैसा कि हम इसे जानते आ रहे हैं। हम इस नीले ग्रह पर रहते हैं, और यदि यह एक विशाल, निष्क्रिय बाहरी अंतरिक्ष के बीच खास है, तो ऐसा इसलिए है क्योंकि यह जीवन का समर्थन करने के लिए आवश्यक शर्तों को पूरा करता है। पशुओं और पौधों दोनों की सभी कोशिकाओं में एक बड़ी मात्रा में पानी होता है जोकि लगभग 75% है। और इन कोशिकाओं को अपने अस्तित्व के लिए बड़ी मात्रा में पानी की आवश्यकता होती है। बिना किसी संदेह के, पानी एक जरूरी तत्व है जो हर चीज का हिस्सा है, और यह दुनिया को वो आकार देता है जैसा कि हम इसे जानते हैं। इसलिए, हमें जल पदचिन्‍ह के बारे में बात करनी होगी।

जल पदचिह्न इतना महत्वपूर्ण क्यों है?

जिन उत्पादों का हम दैनिक उपभोग करते हैं, उनमें ताजा पानी सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला प्राकृतिक संसाधन है। लेकिन, क्या हम जानते हैं कि इनमें से प्रत्येक खाद्य पदार्थ का उत्पादन करने के लिए कितना पानी आवश्यक है? यही वो जगह है जहां पर जल पदचिन्‍ह की अवधारणा प्रकाश डालती है और प्रत्‍येक उत्‍पाद के लिए पानी के उपयोग के मात्रा के बारे में शंकाओं को दूर करती है।

यूनिवर्सिटी ऑफ ट्वेंटे (नीदरलैंड्स) के शोधकर्ताओं, आरजेन होकेस्ट्रा और मेसफिन मेकोनन ने साल 2002 में इस अवधारणा को विकसित किया। उनका उद्देश्य पानी की मात्रा में प्रभाव को दिखाना था, जो रोजमर्रा की वस्तुओं में होता है।

जलवायु परिवर्तन और जनसंख्या वृद्धि के मौजूदा संदर्भ में जल संसाधनों पर बहुत अधिक दबाव है। इसका मतलब है कि ताजे पानी तक पहुंच गंभीर तौर पर और लगातार कम हो रही है। वर्तमान में, संसाधनों की कमी 10 में से 4 लोगों को प्रभावित करती है, और वर्ष 2025 तक यह 67% आबादी को प्रभावित कर सकती है। इस वजह से, पानी के महत्त्व के बारे में जागरूक होना आवश्यक है। जटिल भविष्य के लिए अनुकूल होने की क्षमता में सुधार के लिए संसाधनों का कम उपयोग करना आवश्यक है।

मार्क बकले विश्व आर्थिक मंच के नवाचार और कृषि, खाद्य और पेय विशेषज्ञ नेटवर्क के सदस्य हैं और 17 संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) के सबसे बड़े पैरोकारों में से एक हैं। वे विश्वास से कहते हैं कि, “पानी हमारे पास सबसे मूल्यवान संसाधन है।” ऐसा इसलिए है क्योंकि संसाधन क्रॉस-कटिंग है और प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से सभी एसडीजी को प्रभावित करता है। इस कारण से, गुणवत्ता वाले पानी की कमी से संबंधित समस्याओं को हल करनाे प्रत्‍येक एसडीजी की वर्तमान स्थिति में सुधार करेगा।

वर्तमान में, संसाधनों की कमी
10 में से 4 लोगों को प्रभावित करती है,
और वर्ष 2025 तक यह
67% आबादी को प्रभावित कर सकती है

Qatiumइंटेलीजेंट असिसटेंट

हम जल पदचिह्न की गणना कैसे कर सकते हैं?

किसी उत्पाद का जल पदचिह्न उत्पादन के सभी चरणों में खपत हुए और/या प्रदूषित हुए पानी की मात्रा है। इसे मात्रा की इकाईयों (लीटर, क्यूबिक मीटर, गैलन…) में मापा जाता है, जिससे एक निश्चित वस्तु में ताजे पानी के उपयोग का अंदाजा मिलता है। इसलिए, यह सीधे उत्पादन में उपयोग किए जाने वाले पानी और इसके कच्चे माल में इस्तेमाल होने वाले अप्रत्यक्ष हिस्से को ध्यान में रखता है।

उदाहरण के लिए, यदि हमें बीफ के 2 एलबी के जल पदचिह्न को मापना हो, तो हमें न केवल पशु द्वारा उपयोग किए जाने वाले पानी पर विचार करना होगा, बल्कि इस प्रक्रिया में भोजन उत्पादन के लिए आवश्यक पानी और प्रदूषित पानी पर विचार करना होगा। उसके बाद हम उस पानी को जोड़ सकते हैं जो मांस को सुपरमार्केट तक पहुंचाने के लिए आवश्यक है और जो इसे फ्रिज में रखने आदि के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

जल पदचिह्न की श्रेणियाँ

उत्पाद के निर्माण में उपयोग किए जाने वाले पानी की उत्पत्ति के आधार पर तीन श्रेणियां हैं। यहजल पदचिह्न नेटवर्कपर 2008 में प्रोफेसर होकेस्ट्रा का प्रस्ताव है:

  • हरित जल पदचिह्न: उस पानी का अवक्षेपण और वाष्‍पीकरण जिसका उपयोग किसी उत्‍पाद के निर्माण में किया जाता है। धान के खेत के मामले में, यह सीधे तौर पर खेत में गिरने वाली बारिश और वह भाग होगा जो वाष्पित हो जाता है।
  • नीलू जल पदचिह्न: सुविधाओं या आधारिक संरचनाओं द्वारा नियंत्रित प्राकृतिक या कृत्रित स्रोतों से सतही या भूमिगत जल। यह आमतौर पर अधिकांश उत्पादों में सबसे बड़ा हिस्सा होता है। धान के खेत के मामले में, यह नालों या पंपिंग से सिंचाई के लिए उपयोग होने वाला पानी होगा।
  • ग्रे जल पदचिह्न: विनिर्माण प्रक्रिया के दौरान उत्पन्न प्रदूषण को आत्मसात के लिए आवश्यक संसाधनों की मात्रा। धान के खेत के मामले में, यह वह आवश्यक पानी होगा जिसकी पर्यावरण को उत्पादन (उर्वरकों, शाकनाशकों, कीटनाशकों, आदि) के दौरान उपयोग किए जाने वाले रासायनिक उत्पादों को मिलाने के लिए आवश्यकता होती है।
जल-पदचिह्न-कॉफी-गैलन

कॉफी का जल पदचिह्न लगभग 52 गैलन प्रति कप है।

हम अपने जल पदचिह्न को कैसे कम कर सकते हैं?

19 वीं शताब्दी के ब्रिटिश भौतिक विज्ञानी-गणितज्ञ विलियम थॉमसन केल्विन का प्रसिद्ध वाक्यांश किसी भी प्रक्रिया को बेहतर बनाने के लिए मापने के महत्व पर प्रकाश डालता है:

” मैं अक्सर कहता हूं कि आप जो बोल रहे हैं जब आप उसे माप सकते हैं, और इसे संख्याओं में व्यक्त कर सकते है, तो आप इसके बारे में कुछ जानते हैं; लेकिन जब आप इसे माप नहीं सकते, जब आप इसे संख्याओं में व्यक्त नहीं कर सकते, तो आपका ज्ञान अल्प और असंतोषजनक है; यह ज्ञान की शुरुआत हो सकती है, लेकिन आपके मस्तिष्क में, आप विज्ञान की स्थिति के लिए शायद ही आगे बढ़ें, चाहे कुछ भी हो। ”

लॉर्ड केल्विन, 1883

यही कारण है कि, जल पदचिह्न को कम करने में पहला कदम इसे जानना और गणना करना है।

लेकिन जल पदचिह् को कम करने के लिए अतिरिक्त सुझाव भी हैं:

  1. कुछ उत्पादों की खपत को कम करें। उदाहरण के लिए, अधिक फल, सब्जियों और ताजे भोजन का सेवन करें।
  2. स्थानीय उत्पादों का सेवन करें। स्थानीय किसानों से खरीदना उत्पाद के अप्रत्यक्ष जल प्रभाव को कम करता है।
  3. गैर-मौसमी उत्पाद न खरीदें। उत्पादों को संग्रहीत या आयात करने से उत्पाद के जल पदचिह्न में वृद्धि होती है।
  4. खाना बर्बाद करने से बचें। जिम्मेदारी से खरीदें।
  5. पानी की खपत और प्रदूषण को कम करने के लिए चक्रिय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दें और प्रोत्‍साहित करें। पानी के संसाधनों के उपयोग को कम करने में पुन: उपयोग और खपत को कम करने का सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।
  6. पानी के जिम्मेदार उपयोग को प्रोत्‍साहित करें। उदाहरण के लिए, स्नान करने से बचें और शॉवर लेने को प्रोत्‍साहित करें।
  7. नल का पानी पिएंनल के पानी की तुलना में बोतलबंद पानी का पर्यावरणीय प्रभाव अधिक है।